कवितायेँ | POEM

 तुम चलो तो सही – Narendra Verma 




“राह में मुश्किल होगी हजार,

तुम दो कदम बढाओ तो सही,

हो जाएगा हर सपना साकार,

तुम चलो तो सही, तुम चलो तो सही।

मुश्किल है पर इतना भी नहीं,

कि तू कर ना सके,

दूर है मंजिल लेकिन इतनी भी नहीं,

कि तु पा ना सके,

तुम चलो तो सही, तुम चलो तो सही।…”



कोशिश करने 

वालो की हार नही होती




लहरों से डरकर नौका पार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती.

नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चढ़ती है
चढ़ती दीवारों पर सौ बार फ़िसलती है

मन का विश्वास रगों में साहस भरता है
चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है

मेहनत उसकी बेकार नहीं हर बार होती
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती

डुबकियाँ सिंधु में गोताखोर लगाता है
जा-जा कर खाली हाथ लौट कर आता है

मिलते न सहज ही मोती गहरे पानी में
बढ़ता दूना विश्वास इसी हैरानी में

मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती

असफ़लता एक चुनौती है, स्वीकार करो
क्या कमी रह गई देखो और सुधार करो

जब तक न सफल हो, नींद-चैन को त्यागो तुम
संघर्षों का मैदान छोड़ मत भागो तुम

कुछ किये बिना ही जय-जयकार नहीं होती
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ